|

August 09, 2020

World Hindugenous Day - A Cartoon by Poorva Goel Holycowmics

 
 

As the Sangh Parivar, aided by a shamelessly one-sided govt that is ignoring its responsibility towards all faiths in India, rams its notion of nationalism down our throats; and as the same govt that is destroying countless places of worship (including Hindu temples and adivasi sacred landscapes and shrines) in the name of development (coal mining in some of India's richest forests, with vulnerable adivasi communities for whom the forests are sacred; drowning out Shiva and other temples in Narmada, and much more); and on the occasion of International Day of the World's Indigenous Peoples; I recall an article I wrote on the schizophrenic view of two sacred sites by the Supreme Court in 2008 (Ram Sethu in Palk Strait; and Niyamgiri hills in Odisha): https://www.academia.edu/43813009/A_Blinkered_View_Supreme_Courts_schizophrenia_with_two_sacred_sites_. It is the same with today's govt. To mark the day, Poorva Goel Holycowmics and I issue another in our cartoon series PoliTicks.

India's Composite Culture and Muslim Stalwards

India’s Composite Culture and Muslim Stalwarts Ram Puniyani Contrary to present impression that Muslims are separatists due to whom the partition of India took place, the truth is that Muslims contributed to freedom movement and upheld India’s composite culture in equal measure. The partition process, mainly due to British policy of ‘divide and rule’ well assisted by Hindu and Muslim communalists is being hidden from the popular vision in India and Muslims in general are held responsible for the same. Not only that the communal historiography introduced by British to pursue their policies has become the bedrock of communal politics and worsening of the perceptions about Muslims is in progress in India. Yet another example of this has been a series of tweets by the bureaucrat, who is close to retirement, K. Nageshwar Rao. Contrary to the service rules he has made statements, through his tweets which are appreciative of RSS-BJP and demonise the stalwarts Muslim leaders who not only contributed to the freedom movement but also later gave valuable service in laying the foundation of Independent India. As per Rao, his tweets he accuses Maulana Azad and the other Muslim Education ministers of “deracination of Hindus”. After naming “Maulana Abul Kalam Azad — 11 years (1947-58)”; “Humayun Kabir, M C Chagla & Fakruddin Ali Ahmed — 4 years (1963-67)”; and, “Nurul Hassan — 5 years (1972-77)”, he posts: “Remaining 10 years other Leftists like VKRV Rao.” He points out that their policies were meant to “1. Deny Hindus their knowledge, 2. Vilify Hinduism as collection of superstitions, 3. Abrahamise Education, 4. Abrahamise Media & Entertainment, 5. Shame Hindus about their identity! and 6. Bereft of the glue of Hinduism Hindu society dies.” Then he goes on to praise RSS-BJP for bringing the glory back to Hindus. These statements of his on one hand promote the Hate and on the other tantamount to political statement, which civil servants should not by making. CPM politburo member Brinda Karat has written a letter to Home Minister Amit Shah to take suitable action against the erring bureaucrat. Rao begins with Maulana Abul kalam Azad. Surely Azad was one of the major leaders of freedom movement, who was also the youngest President of INC, in 1923 and later between 1940 to 1945. He opposed the partition process tooth and nail till the very last. As the Congress President in 1923 he wrote a remarkable Para, symbolizing the urge for Hindu Muslim unity, “If an angel descends from heaven and offers me Swaraj in 24 hours on condition that I give up Hindu Muslim Unity, I will refuse. Swaraj we will get sooner or later; its delay will be a loss for India, but loss of Hindu Muslim unity will be a loss for human kind”. His biographer Syeda Hamid points out “He spoke without an iota of doubt about how debacle of Indian Muslims has been the result of the colossal mistakes committed by Muslim League’s misguided leadership. He exhorted Muslims to make common cause with their Hindu, Sikh, Christian fellow countrymen.” He was the one who promoted the translation of Hindu scriptures Ramayan and Mahabharat in to Persian. Surely Mr. Rao, neither has read Azad or read about him nor knows his contributions to making of Modern India. While today, the ideological formation to which Mr. Rao seems to be pledging his commitment is critical of all that happened during Nehru era, it was during this period when as education minister Azad was shepherding the formations of IITs, Academies of Science, Lalit kala Academies. It was during this period that the efforts to promote Indian composite culture were undertaken through various steps. The other stalwarts who are under the hammer have been outstanding scholars and giants in their own field of education. Humayun Kabir, Nurul Hasan, Dr.Zakir Husssain gave matchless ideas and practical contributions in different fields of education. One can say that contrary to the accusations, India could match up to the Computer era, software and associate things, due to creation of large manpower in these areas mainly due to these foundations which were laid down particularly in the field of education during this period. The charge that these ‘Muslim’ education ministers white washed the bloody Islamic rule is a blind repetition of the offshoot of communal historiography introduced by British. While Kings were ruling for power and wealth, their courts had Hindus and Muslim both officers. The jaundiced vision sees this as a bloody Islamic rule but as a matter of fact the syncretic culture and traditions developed precisely this period. It was during this period that Bhakti Traidtion with Kabir, Tukaram, Namdeo, Tulsidas flourished. It was during this period that humane values of Sufi saints reached far and wide. It was during this period that poets like Rahim and Raskhan produced their classic literature n praise of Hindu Gods. We also need to remind ourselves that large number of Muslims participated in the freedom Movement. Two scholars Shamsul Islam and Nasir Ahmad have come out with books on the myriad such freedom fighters, to recall just a few names. Khan Abdul Gaffar Khan, Zakir Hussain, Syed Mohammad Sharfuddin Kadri, Bakht Khan, Muzzafar Ahmad, Mohammad Abdir Rahman,, Abbas Ali, Asaf Ali, Yusuf Mehrali, Maulana Mazahrul Hague. These are just a few of the names. The movement, led by Gandhi, definitely laid the foundations where composite Indian culture and respect for all religions, others’ religion was paramount and this is what created Indian fraternity, one of the values which finds its place in the preamble of Indian Constitution. This blaming of Education ministers who were Muslims is an add-on to the process of Islamophobia in India. So for there have been many actions of Muslim kings which are selectively presented as being bloody, now the post Independent History, where glorious contributions have been made by Muslim leaders are being used to further deepen the divisive process. We need to pay respects to builders of modern India, irrespective of their religion.

August 07, 2020

Hindi Article- Muslims stalwarts' Role in Making of Modern India

भारत की साँझा संस्कृति और मुस्लिम दिग्गज जनसामान्य में यह धारणा घर कर गयी है कि मुसलमान मूलतः और स्वभावतः अलगाववादी हैं और उनके कारण ही भारत विभाजित हुआ. सच यह है कि मुसलमानों ने हिन्दुओं के साथ कन्धा से कन्धा मिलाकर आज़ादी की लड़ाई में हिस्सा लिया और पूरी निष्ठा से भारत की साँझा विरासत और संस्कृति को पोषित किया. विभाजन का मुख्य कारण था अंग्रेजों की ‘बांटो और राज करो’ की नीति और देश को बांटने में हिन्दू और मुस्लिम संप्रदायवादियों ने अंग्रेजों की हरचंद मदद की. फिर भी, आम तौर पर मुसलमानों को देश के बंटवारे के लिए दोषी ठहराया जाता है. यही नहीं, भारत पर अपने राज को मजबूती देने के लिए अंग्रेजों के सांप्रदायिक चश्मे से इतिहास का लेखन करवाया और आगे चलकर इतिहास का यही संस्करण सांप्रदायिक राजनीति की नींव बना और उसने मुसलमानों के बारे में मिथ्या धारणाओं को बल दिया. सेवानिवृत्ति की कगार पर खड़े एक नौकरशाह, के. नागेश्वर राव, ने ट्विटर पर हाल में जो टिप्पणियां कीं हैं, वे इसी धारणा की उपज हैं. इन ट्वीटों में राव ने शासकीय कर्मियों के लिए निर्धारित नियमों का उल्लंघन करते हुए, आरएसएस-भाजपा की तारीफों के पुल बांधे हैं और उन दिग्गज मुसलमान नेताओं का दानवीकरण करने का प्रयास किया हैं जिन्होंने न केवल स्वाधीनता संग्राम में भागीदारी की वरन स्वतंत्र भारत के विकास में भी महत्वपूर्ण भूमिका अदा की. राव ने मौलाना आजाद और अन्य मुस्लिम केंद्रीय शिक्षा मंत्रियों पर हिन्दुओं की जड़ों पर प्रहार करने का आरोप लगाते हुए ऐसे मंत्रियों की सूची और उनके कार्यकाल की अवधि का हवाला भी दिया है: मौलाना अबुल कलम आज़ाद - 11 वर्ष (1947-58), हुमायूँ कबीर, एमसी छागला और फकरुद्दीन अली अहमद - 4 वर्ष (1963-67) और नुरुल हसन - 5 वर्ष (1972-77). उन्होंने लिखा कि बाकी 10 वर्षों में वीकेआरवी राव जैसे वामपंथी केंद्रीय शिक्षा मंत्री के पद पर रहे. उनका आरोप है कि इन मंत्रियों की नीतियों के मुख्य अंग थे: 1. हिन्दुओं के ज्ञान को नकारना, 2. हिन्दू धर्म को अंधविश्वासों का खजाना बताकर बदनाम करना, 3, शिक्षा का अब्राहमिकिकरण करना, 4. मीडिया और मनोरंजन की दुनिया का अब्राहमिकिकरण करना और 5. हिन्दुओं को उनकी धार्मिक पहचान के लिए शर्मिंदा करना. राव का यह भी कहना है कि हिन्दू धर्म ने हिन्दू समाज को एक रखा है और उसके बिना हिन्दू समाज समाप्त हो जायेगा. फिर वे हिन्दुओं का गौरव पुनर्स्थापित करने के लिए आरएसएस-भाजपा की प्रशंसा करते हैं. उन्होंने जो कुछ लिखा है वह नफरत को बढ़ावा देने वाला तो है ही वह एक राजनैतिक वक्तव्य भी है. नौकरशाहों को इस तरह के वक्तव्य नहीं देने चाहिए. सीपीएम की पोलित ब्यूरो की सदस्य बृंदा कारत ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर इस अधिकारी के खिलाफ उपयुक्त कार्यवाही किए जाने की मांग की है. राव ने शुरुआत मौलाना आजाद से की है. मौलाना आजाद, स्वाधीनता आन्दोलन के अग्रणी नेताओं में से एक थे और सन 1923 में वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सबसे युवा अध्यक्ष बने. वे 1940 से लेकर 1945 तक भी कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे. उन्होंने अंतिम क्षण तक देश के विभाजन का विरोध किया. कांग्रेस अध्यक्ष की हैसियत से 1923 में उन्होंने लिखा, “अगर जन्नत से कोई देवदूत भी धरती पर उतर कर मुझसे कहे कि यदि मैं हिन्दू-मुस्लिम एकता की बात करना छोड़ दूं तो इसके बदले वह मुझे 24 घंटे में स्वराज दिलवा देगा तो मैं इंकार कर दूंगा. स्वराज तो हमें देर-सवेर मिल ही जायेगा परन्तु अगर हिन्दुओं और मुसलमानों की एकता ख़त्म हो गयी तो यह पूरी मानवता के लिए एक बड़ी क्षति होगी.” उनकी जीवनी लेखक सैय्यदा हामिद लिखती हैं, “उन्हें तनिक भी संदेह न था कि भारत के मुसलमानों का पतन, मुस्लिम लीग के पथभ्रष्ट नेतृत्व की गंभीर भूलों का नतीजा है. उन्होंने मुसलमानों का आह्वान किया कि वे अपने हिन्दू, सिख और ईसाई देशवासियों के साथ मिलजुलकर रहें.” उन्होंने ही रामायण और महाभारत का फारसी में अनुवाद करवाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया. यह तो पक्का है कि श्री राव ने न तो मौलाना आजाद को पढ़ा है, ना उनके बारे में पढ़ा है और ना ही उन्हें इस बात का इल्म है कि मौलाना आजाद की आधुनिक भारत के निर्माण में क्या भूमिका थी. श्री राव जिन वैचारिक शक्तियों की प्रशंसा के गीत गा रहे हैं वे शक्तियां नेहरु युग में जो कुछ भी हुआ, उसकी निंदा नहीं करते नहीं थकतीं. परन्तु वे यह भूल जाते हैं कि नेहरु युग में ही शिक्षा मंत्री की हैसियत से मौलाना आजाद ने आईआईटी, विभिन्न वैज्ञानिक अकादमियों और ललित कला अकादमी की स्थापना करवाई. इसी दौर में भारत की साँझा विरासत और संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए अनेक कदम उठाये गए. जिन अन्य दिग्गजों पर राव ने हमला बोला है वे सब असाधारण मेधा के धनी विद्वान थे और शिक्षा के क्षेत्र के बड़े नाम थे. हुमायूँ कबीर, नुरुल हसन और डॉ जाकिर हुसैन ने शिक्षा के क्षेत्र में असाधारण और बेजोड़ सैद्धांतिक और व्यावहारिक योगदान दिया. हम बिना किसी संदेह के कह सकते हैं कि अगर आज भारत सॉफ्टवेयर और कंप्यूटर के क्षेत्रों में विश्व में अपनी धाक जमा पाया है तो उसके पीछे वह नींव हैं जो शिक्षा के क्षेत्र में इन महानुभावों ने रखी. हमारे देश में सॉफ्टवेयर और कंप्यूटर इंजीनियरों की जो बड़ी फौज है वह उन्हीं संस्थाओं की देन है जिन्हें इन दिग्गजों ने स्थापित किया था. यह आरोप कि इन मुसलमान शिक्षा मंत्रियों ने ‘इस्लामिक राज’ के रक्तरंजित इतिहास पर पर्दा डालने का प्रयास किया, अंग्रेजों द्वारा शुरू किए गए सांप्रदायिक इतिहास लेखन की उपज है. दोनों धर्मों के राजाओं का उद्देश्य केवल सत्ता और संपत्ति हासिल करना था और उनके दरबारों में हिन्दू और मुसलमान दोनों अधिकारी रहते थे. जिसे ‘रक्तरंजित मुस्लिम शासनकाल’ बताया जाता है, दरअसल, वही वह दौर था जब देश में साँझा संस्कृति और परम्पराओं का विकास हुआ. इसी दौर में भक्ति परंपरा पनपी, जिसके कर्णधार थे कबीर, तुकाराम, नामदेव और तुलसीदास. इसी दौर में सूफी संतों के मानवीय मूल्यों का पूरे देश में प्रसार हुआ. इसी दौर में रहीम और रसखान ने हिन्दू देवी-देवताओं की शान में अमर रचनायें कीं. हमें यह भी नहीं भूलना चाहिए कि मुसलमानों ने बड़ी संख्या में स्वाधीनता संग्राम में भाग लिया. दो अध्येताओं, शमशुल इस्लाम और नासिर अहमद, ने इन सेनानियों पर पुस्तकें लिखीं हैं. इनमें से कुछ थे जाकिर हुसैन, खान अब्दुल गफ्फार खान, सैय्यद मुहम्मद शरिफुद्दीन कादरी, बख्त खान, मुज़फ्फर अहमद, मुहम्मद अब्दिर रहमान, अब्बास अली, आसफ अली, युसूफ मेहराली और मौलाना मज़हरुल हक़. और ये तो केवल कुछ ही नाम हैं. गांधीजी के नेतृत्व में चले आन्दोलन ने साँझा संस्कृति और सभी धर्मों के प्रति सम्मान के भाव को बढ़ावा दिया, जिससे बंधुत्व का वह मूल्य विकसित हुआ जिसे संविधान की उद्देशिका में स्थान दिया गया. भारत के उन शिक्षा मंत्रियों, जो मुसलमान थे, को कटघरे में खड़ा करना, भारत में बढ़ते इस्लामोफोबिया का हिस्सा है. पहले से ही मुस्लिम बादशाहों और नवाबों के इतिहास से चुनिन्दा हिस्सों को प्रचारित कर यह साबित करने का प्रयास किया जाता रहा है कि वे हिन्दू-विरोधी और मंदिर विध्वंसक थे. अब, स्वतंत्रता के बाद के मुस्लिम नेताओं पर कालिख पोतने के प्रयास हो रहे हैं. इससे देश को बांटने वाली रेखाएं और गहरी होंगीं. हमें आधुनिक भारत के निर्माताओं के योगदान का आंकलन उनके धर्म से परे हटकर करना होगा. हमें उनका आंकलन तार्किक और निष्पक्ष तरीके से करना होगा. (हिंदी रूपांतरणः अमरीश हरदेनिया)

July 30, 2020

Hindi Article: Hagia Sophai_ from Museu to Mosque_ Times are a changing


29 जुलाई 2020 हागिया सोफिया का संग्रहालय से मस्जिद बनना: बदल रहा है समय पिछले तीन दशकों में वैश्विक राजनैतिक परिदृश्य में व्यापक परिवर्तन आये हैं. उसके पहले के दशकों में दुनिया के विभिन्न देशों में साम्राज्यवादी और औपनिवेशिक ताकतों से मुक्ति के आन्दोलन उभरे और लोगों का ध्यान दुनियावी मसलों पर केन्द्रित रहा आया. जो देश औपनिवेशिक ताकतों के चंगुल से मुक्त हुए उन्होंने औद्योगीकरण, शिक्षा और कृषि के विकास को प्राथमिकता दी. भारत, वियतनाम और क्यूबा उन देशों में से थे जिन्होंने अपने देश के वंचित और संघर्षरत तबकों के सरोकारों पर ध्यान दिया और धार्मिक कट्टरपंथियों को किनारे कर दिया. इन देशों ने धर्म की दमघोंटू राजनीति से निज़ात पाने के लिए हर संभव प्रयास किए. निसंदेह कुछ देश ऐसे भी थे जहाँ के शासकों ने पुरोहित वर्ग से सांठगांठ कर सामंती मूल्यों को जीवित रखने का प्रयास किया और अपने देशों को पिछड़ेपन से मुक्ति दिलवाने की कोई कोशिश नहीं की. ऐसे देशों की नीतियाँ सांप्रदायिक और संकीर्ण सोच पर आधारित थीं. हमारे दो पड़ोसी - पाकिस्तान और म्यांमार - इसी श्रेणी में आते हैं. सन 1980 के बाद से अनेक कारणों से धर्मनिरपेक्ष-प्रजातान्त्रिक शक्तियां कमज़ोर पड़ने लगीं और धर्म का लबादा ओढ़े राजनीति का बोलबाला बढ़ने लगा. इस राजनीति ने समावेशी मूल्यों और नीतियों को हाशिये पर ढकेलना शुरू कर दिया, राज्य को जन कल्याणकारी नीतियों से भटकना प्रारंभ कर दिया और शिक्षा और औद्योगीकरण के क्षेत्र में प्रगति को बाधित किया. पिछले तीन दशकों में धर्म के नाम पर राजनीति का दबदबा बढ़ा है. इस्लामवाद, ईसाईवाद, हिंदुत्व और बौद्ध कट्टरपंथियों की आवाजें बुलंद हुई है और ये सभी विभिन्न देशों को विकास की राह से भटका रहे हैं और समाज के बहुसंख्यक तबके को बदहाली में ढकेल रहे हैं. अमरीका में डोनाल्ड ट्रम्प ईसाई धर्म के नाम पर प्रत्यक्ष और परोक्ष ढंग से अपीलें कर रहे हैं. म्यांमार में अशिन विराथू, बौद्ध धर्म के नाम पर हिंसा भड़का रहे हैं. श्रीलंका में भी कमोबेश यही हालात हैं. वहां वीराथू जैसे लोगों का प्रभाव बढ़ रहा है. भारत में हिंदुत्व की राजनीति परवान चढ़ रही है. अफ़ग़ानिस्तान के तालिबान अपने देश में ही नहीं वरन पश्चिमी और मध्य एशिया में भी तांडव कर रहे हैं. अफ़ग़ानिस्तान में भगवान बुद्ध की मूर्तियों का विरूपण इसका उदाहरण है. इसी तरह, अयोध्या में बाबरी मस्जिद का ध्वंस देश के इतिहास का एक दुखद अध्याय है जिसका इस्तेमाल हिन्दू राष्ट्रवादियों ने अपनी राजनीति को आगे बढ़ाने के लिए किया. ये तो इस बदलाव के केवल प्रत्यक्ष प्रभाव हैं. इसके सामाजिक-आर्थिक प्रभाव भी अत्यंत विनाशकारी हुए हैं. इससे नागरिकों, और विशेषकर अल्पसंख्यकों के अधिकारों पर गहरी चोट पहुंची है. और यह सब वैश्विक स्तर पर हो रहा है. कुछ दशक पहले तक साम्राज्यवादी ताकतें ‘मुक्त दुनिया बनाम एकाधिकारवादी शासन व्यवस्था (समाजवाद)’ की बात करतीं थीं. 9/11 के बाद से, ‘इस्लामिक आतंकवाद’ उनके निशाने पर है. इस समय पूरी दुनिया में अलग-अलग किस्म के कट्टरपंथियों का बोलबाला है. वे प्रजातंत्र और मानव अधिकारों को कमज़ोर कर रहे हैं. हगिया सोफिया संग्रहालय को मस्जिद में बदले जाने की घटना को इसी सन्दर्भ में देखा जाना चाहिए. कमाल अतातुर्क के नेतृत्व में तुर्की ने खलीफ़ा, जो कि ओटोमन (उस्मानी) साम्राज्य का अवशेष था, को अपदस्थ कर, धर्मनिरपेक्षता की राह अपनाई. खलीफ़ा को पूरी दुनिया के मुसलमानों के एक हिस्से की सहानुभूति और समर्थन हासिल था. अतातुर्क की धर्मनिरपेक्षता के प्रति पूर्ण और अडिग प्रतिबद्धता थी. उनके शासनकाल में हागिया सोफिया, जो कि मूलतः एक चर्च था और जिसे 15वीं सदी में मस्जिद बना दिया गया था, को एक संग्रहालय में बदल दिया गया जहाँ सभी धर्मों के लोगों का दर्जा बराबर था और जहाँ सभी का स्वागत था. तुर्की के वर्तमान राष्ट्रपति इरदुगान, जो कई सालों से सत्ता में हैं, धीरे-धीरे इस्लामवाद की ओर झुकते रहे हैं. इस्लामवाद और इस्लाम में वही अंतर है जो हिन्दू धर्म और हिंदुत्व में या ईसाईयत और कट्टरपंथी ईसाई धर्म में है. इरदुगान ने अपने राजनैतिक करियर की शुरुआत इस्ताम्बुल के मेयर के रूप में की थी. उन्होंने इस पद पर बेहतरीन काम किया और आगे चल कर वे तुर्की के प्रधानमंत्री बने. शुरूआती कुछ वर्षों में उन्होंने आर्थिक मोर्चे पर बहुत अच्छा काम किया. बाद में वे आत्मप्रशंसा के जाल में फँस गए और सत्ता की भूख के चलते इस्लामिक पहचान की राजनीति की ओर झुकने लगे. उनकी नीतियों से देश के नागरिकों की ज़िन्दगी मुहाल होने लगी और नतीजे में स्थानीय संस्थाओं के चुनाव में उनकी हार हो गयी. इसके बाद उन्होंने इस्लामवाद को पूरी तरह अपना लिया और इस्ताम्बुल की इस भव्य इमारत - जो तुर्की की वास्तुकला का सबसे महत्वपूर्ण प्रतीक है - को मस्जिद में बदलने का निर्णय लिया. मुसलमानों का एक तबका इसे ‘इस्लाम की जीत बताकर जश्न मना रहा है. इसके विपरीत इस्लाम के वास्तविक मूल्यों और उसकी मानवीय चेहरे की समझ रखने वाले मुसलमान, इरदुगान के इस निर्णय का कड़ा विरोध कर रहे हैं. उनका कहना है कि इस्लाम में धार्मिक मामलों में जोर-जबरदस्ती के लिए कोई जगह नहीं है (तुम्हारे लिए तुम्हारा दीन है और मेरे लिए मेरा दीन है). यह भारत में व्याप्त इस धारणा के विपरीत है कि देश में तलवार की नोंक पर इस्लाम फैलाया गया. इस्लाम के गंभीर अध्येता हमें यह दिलाते हैं कि एक समय पैगम्बर मोहम्मद, गैर-मुसलमानों को भी मस्जिदों में प्रार्थना करने के लिए आमंत्रित करते थे. कहने की ज़रुरत नहीं कि हर धर्म में अनेक पंथ होते हैं और इन पंथों के अपने-अपने दर्शन भी होते हैं. इस्लाम में भी शिया, सुन्नी, खोजा, बोहरा और सूफी आदि पंथ है और कई विधिशास्त्र भी, जिनमें हनाफी और हन्नाबली शामिल हैं. ईसाईयों में कैथोलिकों के कई उप-पंथ हैं और प्रोटोस्टेंटों के भी. हर पंथ अपने आपको अपने धर्म का ‘असली’ संस्करण बताता है. सच तो यह है कि अगर विभिन्न धर्मों में कुछ भी असली है तो वह है अन्य मनुष्यों के प्रति प्रेम और करुणा का भाव. धर्मों के कुछ पक्ष, सत्ता की लौलुपता को ढांकने के आवरण मात्र है. इसी के चलते कुछ लोग जिहाद को उचित बताते हैं, कुछ क्रूसेड को और अन्य धर्मयुद्ध को. हागिया सोफिया को मस्जिद में बदलने के निर्णय के दो पक्ष हैं. चूँकि इरदुगान की लोकप्रियता में तेजी से गिरावट आ रही थी इसलिए उन्होंने धर्म की बैसाखियों का सहारा लिया. दूसरा पक्ष यह है कि दुनिया के अनेक देशों में कट्टरपंथियों का बोलबाला बढ़ रहा है. सन 1920 के दशक में कमाल अतातुर्क धर्म की अत्यंत शक्तिशाली संस्था से मुकाबला कर धर्मनिरपेक्ष नीतियाँ और कार्यक्रम लागू कर सके. पिछले कुछ दशकों में, धार्मिक कट्टरता ने अपने सिर उठाया है. इसका प्रमुख कारण है अमरीका द्वारा अफ़ग़ानिस्तान में सोवियत सेनाओं से मुकाबला करने के लिए अल कायदा को खड़ा करना और बाद में सोवियत यूनियन का पतन, जिसके चलते अमरीका दुनिया की एकमात्र विश्वशक्ति बन गया. अमरीका ने दुनिया के कई इलाकों में कट्टरतावाद को प्रोत्साहन दिया. इससे धीरे-धीरे धर्मनिरपेक्षता की ज़मीन पर धर्म का कब्ज़ा होता गया. (हिंदी रूपांतरणः अमरीश हरदेनिया)

July 26, 2020

English-Lord Ram: Where was he born?


Lord Ram: Where was he born? Ram Puniyani As the foundation stone of temple in the name of Lord Ram is being planned at the site where Babri Masjid once stood (August 5, 2020) , two new controversies have surfaced. One was that some Buddhist groups claimed that the remnants of Buddha Vihar have been found at the site as the ground was being levelled for the temple. One does recall that Supreme Court has rejected the Public Interest Litigations to excavate and preserve the artefacts at Ayodhya in the light of some these being of Buddhist origin. Another one in the series comes from the Prime Minster of Nepal K.P. Sharma Oli, who claimed that the Ayodya where the Lord was born is in Nepal in Birgunj District. One does not know why he had to come out with this statement at this point of time. He was criticised for this in Nepal itself and his office clarified that his intention was not to hurt anybody’s sentiments. This is not the first time that such controversies have been surfacing around the narratives related to Lord Ram. One recalls that when the Government of Mhaharashtra started publishing the collected works of B R Ambedkar in 1980s, there were protests against his book ‘Riddles of Rama and Krishna’. Ambedkar in this book critiques the Lord for killing Bali a popular king from behind his back, for killing of Shambuk as Shudra who was doing penance (Tapasya) and for abandoning his pregnant wife Sita. The treatment meted out to Sita also comes under criticism; for conducting Agni Pariksha (trial by fire) and her banishment. Incidentally before Ambedkar, Jotirao Phule also had underlined the killing of Bali from behind. Bali was a folk king whose subjects were supposed to be pleased with his rule. Similarly later Ramasami Periyar Naicker wrote ‘True Ramayana’ highlighting these aspects of the Lord. Periyar opposed the caste and gender discrimination inherent in the prevalent narrative of Lord Ram. Periyar also upheld Tamil identity. According to him the Ramayana story was a thinly disguised historical account of how caste ridden, Sanskritic, Upper caste North Indians led by Ram subjugated South Indians. He identifies Ravan as the monarch of ancient Dravidians. Ravan abducted Sita, primarily to take revenge against the mutilation and insult of his sister Surpanakha. In his interpretation Ravana is practitioner of Bhakti, and is a virtuous man. After the demolition of Babri Mosque an exhibition prepared by Safdar Hashmi Memorial Trust (SAHMAT) was vandalised Pune in 1993. This was a reaction to a panel in the exhibition which, showed the Buddhist Jataka version of the mythology where Ram and Sita are brother and sister. As per this version they belonged to high caste clan in which to maintain caste purity they did not marry outside their clan. Just a few years ago, ABVP, the student wing of RSS had campaigned for withdrawal of one of A. K. Ramanujan’s essay ‘Three hyndred Ramayans and Five examples’, he argues that there are many versions of Ramayana and most of them differ as far as geographical and other details are concerned. H.D. Sankalia, the Sanskrit scholar and pioneer of excavation archaeology points out even the places like Ayodhya and Lanka may be different than what is understood today. He argues that Lanka may be somewhere in M.P. as sage Valmiki might not have been aware of the places south of Vindhyas. Tamraparni was the name of what is known as Sri Lanka today. The diverse narratives of Ramayana are prevalent not just in India but whole of South East Asia and are very fascinating. Paula Richman’s book ‘Many Ramayans’ (OUP) gives a glimpse of some of these versions of Lord Ram story. Ramayana story exists not just in the form which is dominant narrative today here in India. This version, takes off from Valmiki through Goswami Tulsidas and its Tele adoption by Ramanand Sagar, which has been telecast yet again during Corona epidemic. Ram story has been translated in Balinese, Bengali, Kashmiri, Thai, Sinhala, Santhali Tamil, Tibetan and Pali amongst others. There are innumerable versions in Western languages also. The narrative in these is not matching. The one prevalent in Thailand is Ramkirti or Ramkin. In this Lord Hanuman, contrary to the version prevalent here, is a not a celibate. In Jain and Buddhist version of Rmayana Ram is follower respectively of Mahavir and Gautam Buddha. In both these versions Ravana is presented as a great sage with vast knowledge. Some of the versions which are popular abroad show Sita as daughter of Ravan. Even in India Malayalam poet Vayalar Ramavarma’s poem, Ravanaputri (Ravan’s daughter) is famous. Many versions show that Dashrath was king of Varanasi, not Ayodhya. Then there is the version of Ramayana story popular and prevalent among women, "Women's Ramayana Songs" of Telugu Brahmin Women, put together by Rangnayakamma. This version keeps the women's concern as the central theme. These songs present Sita as finally victorious over Ram and in these, Surpanakha succeeds in taking revenge over Ram. The rich diversity of these narrations shows the prevalence of Lord Ram’s story in South and South East Asia. The whole Ram temple movement was constructed around a single narration which has lineage of Valmiki, Tulsidas and Ramanand Sagar. Even these three have subtle differences and fine nuances which reflect the caste and gender equations, presented strongly. The present dominant narrative upholds the caste and gender hierarchy, which is the core agenda of communal politics. The emotions have been generated around this and we see repeated attacks on those whose versions and interpretation of the mythology is different from the one suited to communalists. The scholarly works on Ramayana do reflect the diverse prevalent values at that time. Every nationalism constructs its own narrative of the past. Eric Hobswam points out that ‘history is to nationalism what poppy is to opium addict’. Going further it seems that version of nationalism also selects the mythology from the past which suits its agenda.

July 24, 2020

Hindi Article: Where was Lord Ram Born?


कहाँ जन्में थे भगवान राम आगामी पांच अगस्त को उस स्थान पर राम मंदिर का निर्माण शुरू किया जाना प्रस्तावित है जहाँ एक समय बाबरी मस्जिद हुआ करती थी. इसी बीच, इस मुद्दे पर दो विवाद उठ खड़े हुए हैं. पहला यह कि कुछ बौद्ध संगठनों ने दावा किया है कि मंदिर के निर्माण के लिए ज़मीन का समतलीकरण किये जाने के दौरान वहां एक बौद्ध विहार के अवशेष मिले हैं, जिससे ऐसा लगता है उस स्थल पर मूलतः कोई बौद्ध इमारत थी. दूसरे, नेपाल के प्रधानमंत्री के.पी. शर्मा ओली ने दावा किया है कि वह अयोध्या, जिसमें राम जन्में थे, दरअसल, नेपाल के बीरगंज जिले में है. यह कहना मुश्किल है कि ओली ने इसी मौके पर यह मुद्दा क्यों उठाया. उनके इस दावे की उन्हीं के देश में जम कर आलोचना हुई जिसके बाद उनके कार्यालय ने एक स्पष्टीकरण जारी कर कहा कि प्रधानमंत्री का इरादा किसी की भावनाओं को ठेस पहुँचाने का नहीं था. रामकथा को लेकर यह पहला विवाद नहीं है. सन 1980 के दशक में जब महाराष्ट्र सरकार ने बी.आर. आंबेडकर के वांग्मय का प्रकाशन शुरू किया था उस समय भी उनकी पुस्तक ‘रिडल्स ऑफ़ राम एंड कृष्ण’ को इस संग्रह में शामिल किये जाने का भारी विरोध हुआ था. इस पुस्तक में आंबेडकर ने शम्बूक नामक शूद्र की तपस्या करने के लिए हत्या करने, जनप्रिय राजा बाली को धोखे से मारने और अपनी गर्भवती पत्नि सीता को त्यागने के लिए भगवान राम की आलोचना की है. इसके अलावा, सीता को अग्निपरीक्षा देने के लिए मजबूर करने के लिए भी आंबेडकर राम की निंदा करते हैं. आंबेडकर के पहले जोतीराव फुले ने राम द्वारा छुप कर बाली को बाण मारने की निंदा की थी. बाली एक स्थानीय राजा था, जो अपने प्रजाजनों का बहुत ख्याल रखता था और उनमें बहुत लोकप्रिय था. पेरियार ई.वी. रामासामी नायकर ने भगवान राम के व्यक्तित्व के इन पक्षों पर केन्द्रित ‘सच्ची रामायण’ लिखी थी. रामकथा के प्रचलित संस्करण के पात्र जिस तरह का लैंगिक और जातिगत भेदभाव करते दिखते हैं, पेरियार उसके कटु आलोचक थे. पेरियार तमिल अस्मिता के पैरोकार थे. उनके अनुसार, रामायण की कहानी ऊंची जातियों के संस्कृतनिष्ठ, जातिवादी उत्तर भारतीयों द्वारा राम के नेतृत्व में दक्षिण भारत के लोगों पर अपने आधिपत्य स्थापित करने के ऐतिहासिक घटनाक्रम का रूपक मात्र है. पेरियार के अनुसार, रावण, प्राचीन द्रविड़ों के सम्राट थे और उन्होंने सीता का अपहरण केवल अपनी बहन शूर्पनखा के अपमान और उसके विकृत किये जाने का बदला लेने के लिए किया था. पेरियार के अनुसार, रावण एक महान भक्त और एक नेक और धर्मात्मा व्यक्ति थे. बाबरी मस्जिद के ध्वंस के बाद सन 1993 में सफ़दर हाशमी मेमोरियल ट्रस्ट (सहमत) द्वारा पुणे में लगाई गई एक प्रदर्शनी में तोड़-फोड़ की गई थी. वह इसलिए क्योंकि वहां बौद्ध जातक कथा पर आधारित एक पेंटिंग प्रदर्शित की गई थी, जिसमें सीता को राम की बहन बताया गया था. इस कथा के अनुसार, राम और सीता उच्च जाति के एक ऐसे कुल से थे जिसके सदस्य अपनी पवित्रता बनाये रखने के लिए अपने कुल से बाहर शादी नहीं करते थे. कुछ वर्ष पूर्व, आरएसएस की विद्यार्थी शाखा एबीवीपी ने ए.के. रामानुजन के लेख ‘थ्री हंड्रेड रामायणास’ को पाठ्यक्रम से हटाने की मांग को लेकर आन्दोलन किया था. इस लेख में रामानुजन बताते हैं कि रामायण के कई संस्करण हैं जिनमें अनेक विभिन्नताएं हैं और जिनमें घटनाओं का स्थान अलग-अलग बताया गया है. संस्कृत के विद्वान और भारत में पुरातत्वीय उत्खनन के अगुआ एच.डी. सांकलिया के अनुसार यह हो सकता है कि रामायण में वर्णित अयोध्या और लंका, आज की अयोध्या और लंका से अलग कोई स्थान रहे हों. उनके अनुसार, लंका शायद आज के मध्यप्रदेश में कोई स्थान रहा होगा क्योंकि इस बात की प्रबल संभावना है कि ऋषि वाल्मीकि, विंध्य पर्वतमाला के दक्षिण में स्थित इलाके के बारे में कुछ नहीं जानते होंगे. आज जिसे श्रीलंका कहा जाता है, उसका पुराना नाम ताम्रपर्णी था. रामायण के अलग-अलग आख्यान भारत ही नहीं बल्कि पूरे दक्षिण-पूर्व एशिया में पाए जाते हैं और इनमें से कई बहुत दिलचस्प हैं. पौला रिचमन की पुस्तक ‘मेनी रामायणास’ (ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस) में भगवान राम की विभिन्न कथाओं की दिलचस्प झलकियाँ दी गयीं हैं. भारत में राम कथा का जो संस्करण आज सबसे अधिक प्रचलित है वह वाल्मीकि की ‘रामायण’, गोस्वामी तुलसीदास की ‘रामचरितमानस’ और रामानंद सागर के टीवी सीरियल ‘रामायण’ पर आधारित है. इस सीरियल का कोरोना लॉकडाउन के दौरान पुनर्प्रसारण किया गया. राम के कथा का अनेक भाषाओं में अनुवाद हो चुका है जिनमें बाली, संथाली, तमिल, तिब्बती और पाली शामिल हैं. पश्चिमी भाषाओं में इसके अनेकानेक संस्करण हैं, जिनकी कथाएँ एक-दूसरे से मेल नहीं खातीं. थाईलैंड में प्रचलित रामकीर्ति या रामकियेन संस्करण में भारतीय संस्करण के विपरीत, हनुमान ब्रह्मचारी नहीं हैं. रामायण के जैन और बौद्ध संस्करणों में राम, क्रमशः महावीर और गौतम बुद्ध के अनुयायी हैं. इन दोनों संस्करणों में रावण को एक विद्वान और महान ऋषि बताया गया है. कुछ संस्करणों, जो विदेशों में लोकप्रिय हैं, में सीता को रावण की पुत्री बताया गया है. मलयालम कवि वायलार रामवर्मा की कविता ‘रावणपुत्री’ भी यही कहती है. कई संस्करणों के अनुसार, दशरथ अयोध्या के नहीं वरन वाराणसी के राजा थे. फिर, रामायण के एक वह संस्करण भी है जो महिलाओं में प्रचलित है’. तेलुगू ब्राह्मण महिलाओं द्वारा जो ‘महिला रामायण गीत’ गाए जाते हैं, उन्हें रंगनायकम्मा ने संकलित किया है. इनमें महिलाओं की केन्द्रीय भूमिका है. इन गीतों में बताया गया है कि अंत में सीता राम पर भारी पडतीं हैं और शूर्पनखा राम से बदला लेने में सफल रहती है. इन आख्यानों की समृद्ध विविधता से पता चलता है कि भगवान कथा की कथा दक्षिण और दक्षिण-पूर्व एशिया में भी लोकप्रिय है और इसके कई रूप हैं. राममंदिर आन्दोलन पूरी तरह से रामकथा के उस आख्यान पर केन्द्रित है जिसे वाल्मीकि, तुलसीदास और रामानंद सागर ने प्रस्तुत किया है. उन तीनों में भी कुछ मामूली अंतर हैं, विशेषकर लैंगिक और जातिगत समीकरणों के सन्दर्भ में. वर्तमान में भारत में प्रचलित आख्यान, लैंगिक और जातिगत पदक्रम के पैरोकार हैं. और यही पदक्रम, सांप्रदायिक राजनीति के मूल में भी हैं. रामकथा के इस संस्करण के जुनूनी समर्थक पैदा कर दिए गए हैं. वे इस कथा के हर उस संस्करण, हर उस व्याख्या पर हमलावर हैं, जो सांप्रदायिक राजनीति के हितों से मेल नहीं खाते. रामायण पर विद्वतापूर्ण रचनायें, तत्कालीन समाज में व्याप्त मूल्यों और परम्पराओं में विविधता को रेखांकित करतीं हैं. हर राष्ट्रवाद, अतीत का अपना संस्करण रचता है. एरिक होब्स्वाम के अनुसार, “राष्टवाद के लिए इतिहास वह है जो अफीमची के लिए अफीम”. ऐसा लगता है कि विभिन्न प्रकार के राष्ट्रवाद, इतिहास की नहीं वरन पौराणिकी के भी वही संस्करण चुनते हैं जिनसे उनके निहित स्वार्थों की पूर्ती होती हो. (हिंदी रूपांतरणः अमरीश हरदेनिया)